Tuesday, June 24, 2008

"बात बनाऊं कैसे "










"बात बनाऊं कैसे"

तुम अगर रूठ गयी हो तो मनाऊं कैसे,
बात जो मुझ से नही बनती बनाऊं कैसे..

इन्हीं फिकरों मैं मेरी रात कटी जाती है,
दिले-ऐ-बरबाद की तन्हाई हटाऊँ कैसे..

वो जो मिलता है सदियों में एक बार मुझे,
उसका हर बार ही इक वार बचौऊँ कैसे...

अपना दिल उसकी मोहब्बत में मैं हार चुका,
नक्श अनमिट हैं अब इनको मिटाऊँ कैसे...

नहीं अब फिर से नहीं यह नही होने दूँगा,
और तडपुं और पूछूं उसे पाऊँ कैसे...

वो जो आया है तो अब उसको नहीं जाने दूँगा,
लोग पूछेंगे के मैं उस से मिला हूँ कैसे???????




9 comments:

Anonymous said...

REALLY BEAUTIFUL POEM MADAM

KEEP IT UP AND KEEP WRITING SUCH LOVELY POEMS
prabha.dash

Anonymous said...

"kisee tarah se na poora huaa hamara safar
har aik gaam pay manzil thee rasta bankar

hameen bhataktay rahay manzilon ki chaahat mein
sadaa-e dasht banee apnee rahguzar bankar

kisee nay haal jo poocha to hum samajhtay rahay
lo aa gaya hai koyee aaj humsafar bankar

nameen thee aankh mein phir bhee to muskuraatay rahay
hamaare saath chalee zindagee zaher bankar

hamaara dil naheen maana usee ko paa hi gaya
raha tha pichlay janam mein jo humsafar bankar"

.................likha to tha 'beshumar bechainiyon' kay liyay lekin uspay , successful naheen ho paaa raha hoon.........

..............'chakor'

"SURE" said...

वो जो आया है तो अब उसको नहीं जाने दूँगा,
लोग पूछेंगे के मैं उस से मिला हूँ कैसे???????
is poem ki shan me mere paas pryapt words nahi hai is liye aapki poems se hi apne dil ki baat kah raha hoon.

Anonymous said...

I can't amezing ur thinking and ur mently condition. I think u have any very good pain that u enjoy...? Very-very good, I think if u write these poems u r not there ur mind going any other world where u, u and u and ...?

enjoy this


with warm wishes
Imran Jalandhari

Pramod Kumar Kush ''tanha" said...

तुम अगर रूठ गयी हो तो मनाऊं कैसे,
बात जो मुझ से नही बनती बनाऊं कैसे..

इन्हीं फिकरों मैं मेरी रात कटी जाती है,
दिले-ऐ-बरबाद की तन्हाई हटाऊँ कैसे..

Seema ji kin shabdon mein taariff karuun , samajh nahiin paa rahaa huun.Ghazal kehne kaa aapkaa andaaz kabil-e-taariff hi nahiin hai dilkash bhi hai.aisa lagtaa hai ki aap rubruu gungunaa rahii hein.Meri tamaam duayein aapke saath...

Anonymous said...

Bahut hee Sunder Rachana Hai.


aabhar.

Regards
Ashish Kumar 'Anshu'

मोहन वशिष्‍ठ said...

सीमा जी मेरे पास आपकी रचनाओं की तारीफ करने के लिए लफ़ज नहीं हैं बहुत अच्‍छा और एक अरदास भी है आपसे कि आप जो ये फोटोज लगाते हो यदि आपके पास बडे साइज की हों ये फोटोज तो कृप्‍या बताना या मुझे मेल कर सकते हो तो मेल कर दें मेरा मेल आईडी हे mohanvashisth0449@gmail.com

vishnu-luvingheart said...

kya baat hai ji...
ek kasak si jagadi aapki kavita ne...

keep it up plz
and thanks for comment.

mukesh said...

वो जो आया है तो अब उसको नहीं जाने दूँगा,
लोग पूछेंगे के मैं उस से मिला हूँ कैसे???????


isske agee kuch nhi likh shkta.