Thursday, December 4, 2008

'यह हमारा प्रण है !"

यह हमारा प्रण है !!
दिनेशराय द्विवेदी जी द्वारा प्रेरित

24 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

सहमत और शामिल !

मोहन वशिष्‍ठ said...

हम सब तुम्‍हारे साथ हैं


सरफरोशी की तमन्‍ना अब हमारे दिल में है
देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है

बवाल said...

हम आज अपने लहू में तैरें,
तुम अपने ख़ंजर का ज़ंग धो लो !
(क्यूँ) के तुम्हें नया हौसला मिलेगा,
हमें नई ज़िन्दगी मिलेगी !!
बहुत ख़ूब सीमाजी हमेशा की तरह बेहतर !!!!!

manvinder bhimber said...

सरफरोशी की तमन्‍ना अब हमारे दिल में है
देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है
बहुत ख़ूब सीमाजी !!!!!

Arvind Mishra said...

साथ हैं !

vimal verma said...

इस लड़ाई में हम भी शामिल हैं......गर हो सके तो अब कोई शमा जलाईये,इस एहले सियासत का अंधेरा मिटाईये॥.....

दिगम्बर नासवा said...

"वक़्त आने पर बता देंगे तुझे ऐ आसमां"

सब साथ हैं इस दौड़ मैं

G M Rajesh said...

well written thought
coorecting.... sorry me please.....

ladenge jo nihatthe aur nirdoshon ko maarte hai

samarthan sabhi kaa jo vishwaas rakhte hai maanataa me

jajbaa ham logon me kam nahi shahaadat kaa
magar jab kabhi ladenge haraayenge shaitaani kartoot ko......

डॉ .अनुराग said...

yahi dua hai ki ye jajba kayam rahe !

राज भाटिय़ा said...

हम भी आप के साथ सहमत है

योगेन्द्र मौदगिल said...

बेहतरीन व संवेदनशील प्रस्तुति के लिये आभार व बधाई स्वीकारें

रश्मि प्रभा said...

हम एक हैं.........

bhoothnath said...

ham bhi vaadaa karte hain.....

अल्पना वर्मा said...

hum saath hain seema ji

"SURE" said...

हमे अपने मिटा रहे है ,पराये दुश्मनी कर सकते है दगा नहीं,काश चेहरों पे लिखा होता हर किसी का हालेदिल ....
दहशतगर्द को जब भी तलाशा गया है
कुछ सफेदपोश से साए नज़र आये है ...
(मतलब ये है की जब तक सियासत की पनाहगार में उनके छुपने की जगह है ,वे आते रहेंगे और हम खामोश से बैठे ये सब झेलते रहेंगे .......लोमडियों से हुकूमत छीन लो भेडिये खुद गीदड़ बन जायेंगे)
बाकि सीमा जी इस ज्वलंत समस्या के निर्मूल विनाश के लिए हम तो आपके साथ है

Zakir Ali 'Rajneesh' said...

इस जंग में सारा देश आपके साथ है।

vipinkizindagi said...

achchi prastuti,
aur sara desh aatank ke khilaf ek sath hai

विक्रांत बेशर्मा said...

मैं भी आपसे सहमत हूँ और शामिल भी !!!!!!!!!!!!

अनुपम अग्रवाल said...

लगा कि देश में जनजागृति शुरू हो गयी .
मुझे भी शामिल करें .

Anonymous said...

main aatankwaad ke janak kee or sab ka dhyan dilana chahta hoon.----dambh,prapanch,aur shadyantra.--
kya aapne dhyan diya ki bombay mein jo killers aaye thay unka aslee target hemant karkare aur ATS ke top officers they. jo rahasyamayee dhang se sab se pahley maare jaane waalon mein se they.parantu yadi kaatilaana khel waheen per agar ruk gaya hota to sadhvi pragya,colonel purohit aur dayanand swami jinke baare mein roz eik prpanchi gutthi saamne aati thee aur shadyantrik chehron se naqaab uthne hi waali thee , usee per logon ka dhyan rahta.-- per waah re prpanch.--is liye ki udhar se dhyan hathaya jaaye ek bada aatanki khel khel kar saikdon logon ko maar kar saara dhyan aatankwaad ki ore kar diya gaya. ab aap sadhwi pragya ka koyi zikr sunte hee naheen lagta hai aatanki killers sadhwi ko rescue karne ke liyay hee hire kiye gaye they. kayee dino se narendra modi aur adwaani sadhwi ke favour mein vyakhyan de rahe they lekin ATS ke officers jo apne kaam se peechay naheen hath rahe they unki antatah hatya kar di gayi.aatankwaad ke khilaaf naaron ki goonj mein hemant kakare ki shahaadat aur wastawikta doob gayee. ek or poora desh aatankwaad ke khilaaf jung mein ek saath uth kharaa hua hai to doosri or dhongi,prapanchi,shadyantra karne waale makkar hamaare leader banay tahal rahay hain. yahee hain jo padosi desh mein aatnki banaane ke kaarkhaane fund karte hain aur satta hathiyane ke liyay samaaj ko polarise karne hetu aatanki dhamaake karwaate hain to kabhi trainon mein aag lagwaate hain.

Main shaheed-e-aazam hemant karkare ko aur unko saathiyon ko naman katrta hoon aur apni shrandhajaali sab shaheedon ko pesh karta hoon. kuch panktiyan mere hridyodgar darshaati hain:

"phir ek baar yehan sach ki zubaan bund huyee
phir ek ek baar haqeeqat ka galaa kaata gaya'
phir se makkari ne haathon mein uthaaye hain alam
sach pe pardon ko girata hua sannata gaya'
bum dhamaakon ki aawaazein fiza mein goonjeen
dub gayee sach ki wo awaaz ubharne ko jo thee"

mujhe khushee hai desh ko ek saath dekh kar lekin dukh hai ki log aslee mujrimon ko pahchaante naheen.

bhagwaan sab ko sadbuddhi de.
"tamso ma jyotirgamay"

दीपक said...

सीमा जी मेरा मानना है कि ऐसे नारे पोस्टर से आपकी संवेदनशीलता तो दिख सकती है मगर आप भी उन लफ़्फ़ाज नेतओ की श्रेणी मे पहुंचने लगते है !!

नारे पोस्टर और भाषणबाजी भी अब ग्लैमर हो गया है !!आजकल आलम ये है कि किसी के घर मे कुछ अनहोनी हो रही हो तो अडोस पडोस से मुठ्ठी भर आदमी नही मिलते और यह ज्यादातर शिक्षीत कहे जाने वाले कालोनी परंपरा मे ही होती है गांव के अनपढो मेअभी तनिक जागरुकता बाकी है !!सलिये मुझे ना जाने क्यो ये सारी बाते कांट्राडक्टरी लगती है !!

Hyderabadi said...

मैं दीपक जी की बातों से सहमत हूँ. इसका एक हल यह हो सकता है के हम अपने अपने मोहल्लों में छोटी छोटी कमीटीयां बनाएं और पास पड़ोस के घर वालों से मिलना जुलना रखें.

Mrs. Asha Joglekar said...

आपकी इस पहल में हम भी आपके साथ हैं ।

mukesh said...

hum bhi aapke sath hai